भारतीय जनता के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की सम्पत्ति की खबर मीडिया ने क्यों छिपाई? छिपाई, तो किसने दबाव डाला। दबाव किसी ने डाला भी या फिर कुछ पत्रकार जो सरकार के पलक झपकने से भी इशारा लेते हैं, उन्होंने स्वत:स्फूर्त ये कारनामा कर डाला। दबाव डाला गया, तो जिसने भी ये सलाह दी, वो अमित शाह का शुभचिन्तक तो कतई न रहा होगा। लेकिन, एक और मोदी-शाह का द्वेषी मीडिया भी है, जिसे किसी भी तरह से मोदी-शाह के खिलाफ मिला हर मसाला अच्छी खबर की बुनियाद दिखता है। इस घटना से मीडिया की साख पर क्या असर पड़ा बता रहे हैं वरिष्ठ पत्रकार हर्षवर्धन त्रिपाठी

Related Posts

अखबार में

कांग्रेस को नया नेता खोजने पर जोर देना चाहिए

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के साथ निजी तौर पर मेरी बड़ी सहानुभूति है। और इस सहानुभूति की सबसे बड़ी वजह यह है कि निजी तौर पर राहुल गांधी मुझे भले आदमी नजर आते हैं। लेकिन, Read more…

बतंगड़ ब्लॉग

मृणाल पांडे की जमकर आलोचना क्यों जरूरी ?

जानी मानी लेखिका, हिन्दुस्तान अखबार की पूर्व प्रधान सम्पादक और प्रसार भारती की पूर्व चेयरमैन मृणाल पांडे ने ट्विटर पर ऐसा लिख दिया है जिसे, मृणाल पांडे के समर्थन में उतरे लोग आलोचना कह रहे Read more…

बतंगड़ ब्लॉग

अच्छी हिन्दी न आने का अपराधबोध !

बच्चा अंग्रेजी माध्यम स्कूल में पढ़ता है या नहीं? अब यह सवाल नहीं रहा, एक सामान्य जानकारी भर रह गई है। हां, जिसका बच्चा अभी भी अंग्रेजी माध्यम स्कूल में नहीं पढ़ रहा है, ऐसे Read more…