कर्नाटक के एक मंत्री के घर और दूसरे ठिकानों पर आईटी के छापे से देश में एक बड़ा सवाल खड़ा हो गया है। वो सवाल ये है कि क्या कांग्रेस मुक्त भारत के सपने को पूरा करने के लिए मोदी-शाह की जोड़ी राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ केन्द्रीय एजेन्सियों का इस्तेमाल कर रही है और ये लोकतन्त्र के लिए कितना बड़ा खतरा है। लेकिन, राजनीतिक विश्लेषक हर्षवर्धन त्रिपाठी इसे दूसरे नजरिए से देख रहे हैं।

Related Posts

अखबार में

कांग्रेस को नया नेता खोजने पर जोर देना चाहिए

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के साथ निजी तौर पर मेरी बड़ी सहानुभूति है। और इस सहानुभूति की सबसे बड़ी वजह यह है कि निजी तौर पर राहुल गांधी मुझे भले आदमी नजर आते हैं। लेकिन, Read more…

बतंगड़ ब्लॉग

मृणाल पांडे की जमकर आलोचना क्यों जरूरी ?

जानी मानी लेखिका, हिन्दुस्तान अखबार की पूर्व प्रधान सम्पादक और प्रसार भारती की पूर्व चेयरमैन मृणाल पांडे ने ट्विटर पर ऐसा लिख दिया है जिसे, मृणाल पांडे के समर्थन में उतरे लोग आलोचना कह रहे Read more…

बतंगड़ ब्लॉग

अच्छी हिन्दी न आने का अपराधबोध !

बच्चा अंग्रेजी माध्यम स्कूल में पढ़ता है या नहीं? अब यह सवाल नहीं रहा, एक सामान्य जानकारी भर रह गई है। हां, जिसका बच्चा अभी भी अंग्रेजी माध्यम स्कूल में नहीं पढ़ रहा है, ऐसे Read more…