कर्नाटक के एक मंत्री के घर और दूसरे ठिकानों पर आईटी के छापे से देश में एक बड़ा सवाल खड़ा हो गया है। वो सवाल ये है कि क्या कांग्रेस मुक्त भारत के सपने को पूरा करने के लिए मोदी-शाह की जोड़ी राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ केन्द्रीय एजेन्सियों का इस्तेमाल कर रही है और ये लोकतन्त्र के लिए कितना बड़ा खतरा है। लेकिन, राजनीतिक विश्लेषक हर्षवर्धन त्रिपाठी इसे दूसरे नजरिए से देख रहे हैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

बतंगड़ ब्लॉग

नियति और नियन्ता

ईश्वरीय सत्ता को लेकर हमेशा मैं भ्रम में रहता हूं। इसकी शायद सबसे बड़ी वजह उस सत्ता को लेकर धरती पर गजब का पाखण्ड होना है। लेकिन, नियति और नियन्ता कोई तो होगा ही। ऐसी Read more…

बतंगड़ ब्लॉग

ईमानदारी से सब एकदम साफ दिखता है

जिसको बेईमान मौसम कहते हैं ना, वही सुबह से नोएडा में था। अच्छी बात ये कि जाते-जाते ईमानदारी दिखा गया। बादलों के पीछे लगातार जोर मार रही बारिश की बूँदें टपक गईं। ईमानदार मौसम की Read more…

राजनीति

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी से सीखिए आदित्यनाथ जी !

नरेंद्र मोदी ने गुजरात का मुख्यमंत्री रहते हुए एक नई बुनियाद तैयार की थी। जिसे उदाहरण के तौर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ इस्तेमाल कर सकते हैं। मुख्यमंत्री को ये सवाल पूछने का हक Read more…