राजनीति

आडवाणी जी मुश्किल तो है लेकिन …

लालकृष्ण आडवाणी नहीं मानेंगे। किसी से नहीं मानेंगे। जनभावना से नहीं मानेंगे। पार्टी नेताओं से नहीं मानेंगे और यहां तक कि जिस राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को वो अपने जीवन की सारी उपलब्धियों की सबसे बड़ी वजह मानते हैं उस संघ की भी नहीं मानेंगे। लोगों को लग रहा है कि Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

भ्रमित भारतीय जनता से भ्रमित भारतीय जनता पार्टी !

पता नहीं मेरे अलावा और कितने लोग ये कहते मानते होंगे। मानते भी होंगे तो सार्वजनिक तौर पर कितने मानते होंगे। लेकिन, मैं सार्वजनिक तौर पर कहता हूं कि ये देश भ्रमित लोगों का देश है। पत्रकार हूं तो तुक्का भिड़ाने के लिहाज से मैं भ्रमित भारत बोलता हूं। भ्रमित Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

राहुल गुस्सा क्यों कम करना चाहते हैं?

राहुल गांधी ने अमेठी में बड़ी अच्छी अच्छी बातें बोली हैं। गुस्सा बुरी बात है। गुस्सा करना ठीक नहीं है। उन्होंने अच्छी बातें करते हुए ये भी कहा कि नौजवानों को मौका मिलना जरूरी है। राहुल ये भी बोल गए कि पंजाब में कांग्रेस और अकालियों ने नौजवानों को बड़े Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

मोदी की ये पैकेजिंग बिकाऊ लगती है?

ये महज संयोग है या सचमुच एक फैसला कितने संयोगों को जन्म दे देता है ये समझने की बात है। लेकिन, भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से नितिन गडकरी की विदाई क्या हुई, अचानक भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में एक अजीब सा माहौल बनता दिख रहा है। Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

अगर नरेंद्र मोदी-राहुल गांधी की टक्कर हुई तो …

फूलपुर, इलाहाबाद में सभा के दौरान राहुल गांधी राहुल गांधी ने फूलपुर में 14 नवंबर को जो, बोला वो, पार्टी की 22 सालों से सत्ता से जो, दूरी हैं उसे कम करने के लिए बोला। लेकिन, जवानी का जोश ऐसा रहा कि सब उल्टा पड़ता दिख रहा है। सब राशन-पानी Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

जल्दबाजी मोदी को भारी पड़ेगी?

 नरेंद्र मोदी के उपवास के दौरान लालकृष्ण आडवाणी  गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में अब तक जो, दिखता रहा है कि वो, हर फैसला बड़ा सोच-समझकर लेते हैं। इसी से ताकतवर भी हुए। लेकिन, अब लालकृष्ण आडवाणी का ये विरोध नरेंद्र मोदी के लिए बड़ी मुसीबत Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

अब गांधी की शरण में मोदी

गुजरात सचमुच इस देश का अनूठा प्रदेश है। तरक्की गुजरातियों के स्वभाव में है। और, ये इस धरती का ही कमाल है कि बारूद के ढेर पर बैठने का अहसास होने के बाद भी यहां के कारोबार पर कोई असर नहीं पड़ा है। गुजरातियों की इसी नब्ज को नरेंद्र मोदी Read more…

By Harsh, ago