बतंगड़ ब्लॉग

ज्यादा वोट के बावजूद बीजेपी की सीटें कम होने की पहेली सुलझ गई

टीवी चैनलों पर काफी समय तक ऐसा लगा कि मुख्यमंत्री विजय रूपानी अपनी विधानसभा में पिछड़ रहे हैं। लेकिन, जब परिणाम आए तो, राजकोट पश्चिम से बीजेपी प्रत्याशी मुख्यमंत्री विजय रूपानी को 131586 मत मिले और कांग्रेस प्रत्याशी इंद्रनील राजगुरू को मिले 77831 मत। नरेंद्र मोदी और अमित शाह के Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

गुजरात चुनावों पर यह वीडियो सिर्फ पत्रकारों के लिए है !

गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे भी आ गए। पत्रकारों की छोड़िए, चुनाव विश्लेषण के नाम पर ही अपनी ब्रांडिंग करने वाले योगेंद्र यादव पूरी तरह से गलत साबित हुए। सेलिब्रिटी टाइप के पत्रकारों, चुनाव विश्लेषकों और बुद्धिजीवियों के साथ नए पत्रकारों के लिए आगे चुनावी समय में Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

पप्पू, फेंकू से तू चाय बेच ! की तुलना नहीं

कुछ विद्वान लोग कह रहे हैं कि पहले देश के प्रधानमंत्रियों पर भी टिप्पणी होती रही है और डॉ. मनमोहन सिंह पर तो जाने क्या-क्या टिप्पणी की गई। इसीलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर चाय वाली टिप्पणी भी जायज हो जाती है। लेकिन, तू चाय बेच वाली टिप्पणी पप्पू, फेंकू, मौनमोहन Read more…

By Harsh, ago
अखबार में

हत्या में सम्मान की राजनीति की उस्ताद कांग्रेस

गौरी लंकेश को कर्नाटक सरकार ने पूरे राजकीय सम्मान के साथ अन्तिम विदाई दी। गौरी लंकेश को राजकीय सम्मान दिया गया और सलामी दी गई। इस तरह की विदाई आमतौर पर शहीद को दी जाती है। भारतीय इतिहास में किसी पत्रकार को हत्या के बाद इस तरह का सम्मान दिया Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

नेता बदले गांधी परिवार, लौटता दिख रहा कांग्रेस का आधार

पूर्ण बहुमत लोकतंत्र में स्थिरता के लिए जरूरी होता है। लेकिन, कई बार पूर्ण बहुमत की वजह से चुनावी विश्लेषण में कई जरूरी मुद्दों पर बात ही नहीं हो पाती है। कुछ ऐसा ही दिल्ली नगर निगम के चुनाव में भी हुआ है। चर्चा सिर्फ पूर्ण बहुमत वाली बीजेपी और Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

एक चुकी विरासत का शहजादा

राहुल गांधी को लेकर बार-बार ये कहा जाता है कि इतनी शानदार विरासत को वो संभाल नहीं पा रहे हैं। ये बात इतनी बार और इतने तरीके से कही जा चुकी है कि देश को राहुल गांधी पर अब नेता के तौर पर भरोसा हो ही नहीं पाता है। क्योंकि, Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

असल जादू या कांग्रेसी हाथ की सफाई

प्रियंका गांधी चर्चा में हैं। हर बार चुनावों के समय होती ही होती हैं। कमाल ये है कि त्यागी छवि के बावजूद रायबरेली गांधी परिवार का निर्बाध किला बना रहे इसके लिए प्रियंका गांधी को ही रायबरेली में जाकर डेरा डालना पड़ता है। मीडिया इसे कभी सोनिया गांधी की काबिलियत Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

ये पूरा बेड़ा गर्क करके ही मानेंगे

अब सोचिए कि क्या होगा। ये कुछ समझने-मानने को तैयार ही नहीं हैं। वैसे ये मान ही लेते तो, इस हाल में थोड़े न पहुंचते। इतनी गंभीर बीमारी है और इनके शुभचिंतकों से लेकर आलोचक तक अलग-अलग तरीके से इन्हें आगाह कर रहे हैं। लेकिन, इनको क्यों फर्क पड़े आखिर पूरी Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

जो कुछ किया सिर्फ हमने किया

करगिल भारतीय इतिहास का ऐसा पड़ाव है जिसे कभी भी भुलाया नहीं जा सकता। इस महान विजय दिवस को 10 साल पूरे हो गए और मीडिया ने जिस तरह से करगिल के शहीदों, जवानों पर खास कार्यक्रम पेश किए उससे निश्चित ही देश में देशप्रेम की भावना उफान मार रही Read more…

By Harsh, ago
राजनीति

ये पिछले 62 सालों से अप्रैल फूल बन रहे हैं

बीजेपी का घोषणापत्र अब तक जारी नहीं हुआ है। लेकिन, ये कांग्रेस दो हाथ आगे दिखेगा। आखिर घोषणापत्र होता तो सिर्फ कहने के लिए ही होता है। इसलिए कांग्रेस ने पहले जो कहा उससे कुछ आगे तो बीजेपी वालों को कहना ही होगा। बानगी दिख गई है- गुजरात के मुख्यमंत्री Read more…

By Harsh, ago