बतंगड़ ब्लॉग

गुजरात चुनाव में ये कमाल भी हुआ है !

टेलीविजन चैनलों को देखकर यही लगेगा कि गुजरात चुनावों में सिर्फ और सिर्फ गन्दगी ही फैल रही है। सब नेता एक दूसरे को गाली दे रहे हैं, आरोप लगा रहे हैं। लेकिन, गुजरात चुनाव के प्रचार में एक कमाल भी हुआ है और ये सकारात्मक है।

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

गुजरात चुनाव के मुद्दे

क्या 2017 के विधानसभा चुनाव में जाति ने दूसरे सभी मुद्दों को पीछे छोड़ दिया है या फिर धर्म भी मुद्दा बना है। और, सबसे बड़ी बात कि, क्या गुजराती विकास पर वोट करेगा या नहीं।

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

अमित शाह के मिशन 150 को पूरा करने में लगे 22 कांग्रेसी

2014 के लोकसभा चुनाव में गुजरात की जनता ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए, सभी सीटों को, बीजेपी की झोली में डाल दिया था। सभी 26 सीटें जिताकर गुजरात ने नरेंद्र मोदी की दावेदारी पक्की कर दी थी। गुजरात में इसके पहले 1980 में लगभग ऐसा हुआ था Read more…

By Harsh, ago
अखबार में

22 साल के बदलाव को बदलने को तैयार नहीं हैं गुजराती

किसी राज्य में एक पार्टी की सरकार के खिलाफ एक कार्यकाल के बाद ही जिस तरह से सत्ता विरोधी रुझान हो जाता है, उसमें 22 साल से एक ही पार्टी की सरकार के खिलाफ माहौल आसानी से बनता दिख जाता है। गुजरात का चुनावी माहौल कुछ ऐसा ही है। और, Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

हिन्दुत्व पर नहीं जातियों पर गुजरात चुनाव ?

2017 के गुजरात विधानसभा चुनावों का सबसे सामान्य विश्लेषण यही है कि इस बार चुनाव हिन्दुत्व पर नहीं हो रहा है। बल्कि, हिन्दू जातियों के बीच हो रहा है। मुसलमान एकदम शान्त है। बस इसी आधार पर ज्यादातर विश्लेषण हो रहे हैं। जाति पर हो रहे इस चुनाव को समझने Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

रंजीत झाला बता रहे हैं, क्या हो रहा है गुजरात में ?

गुजरात चुनाव हर बार की ही तरह इस बार भी जबरदस्त रोचक हैं। फर्क बस इतना है कि नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री के तौर पर यहां नहीं है। लेकिन, प्रधानमंत्री के तौर पर आ रहे हैं। राहुल गांधी लगभग बन चुके कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर जमे हैं और अमित शाह Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

गुजरात का ताजा चुनावी गणित

गुजरात चुनाव पर पूरे देश की नजर है, हमेशा ही रहती है। लेकिन, इस बार कुछ ज्यादा इसलिए है क्योंकि, नरेेंद्र मोदी यहां नहीं हैं। और, इसलिए भी कि, बहुत से लोग बदलाव की उम्मीद से हैं। एक रोचक विश्लेषण मुझे समझ में आया है कि जैसे देश का मुसलमान Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

रात 11 बजे अहमदाबाद में सड़क किनारे महिलाओं की खरीदारी

गुजरात में ऐसा क्या है कि यहां का राजनीतिक माहौल लम्बे समय से एक जैसा है। उसकी एक बड़ी वजह, यहां रहने वालों की लाइफस्टाइल का बेहतर होना है। अच्छी सड़कें, निरन्तर बिजली के अलावा सुरक्षा का माहौल एक बड़ी वजह है। रात में 11 बजे लड़कियां-महिलाएं मजे से खरीदारी Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

गुजराती मुसलमान साबरमती रिवरफ्रंट पर मजे कर रहा है !

दिल्ली से बैठकर कुछ ऐसा ही दिखता है कि गुजरात में मुसलमान बेहद डरा-सहमा बस किसी तरह जीवन बिता रहा है। 2002 के बाद से कुछ ऐसी ही धारणा पक्की कर दी गई है। 2002 में हुआ दंगा सभ्य समाज के लिए कलंक ही है। लेकिन, सच यह भी है Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

मुस्तकीम की जगह शातिर कपड़ा कारोबारी होता तो ?

पूरे देश में हल्ला है कि कारोबारी बहुत नाराज है। वजह जीएसटी। मैं हमेशा यह बात कहता था कि ठीक है एक नया टैक्स तंत्र लागू हुआ है, तो उसकी अपनी मुश्किलें होंगी। लेकिन, जीएसटी कोई कारोबारी की जेब से तो जा नहीं रहा है। जीएसटी तो जो खरीद रहा Read more…

By Harsh, ago