विश्व हिन्दू परिषद के अन्तर्राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉक्टर प्रवीण तोगड़िया ने केंद्र सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है। और, यह आरोप सीधे-सीधे भले नाम लेकर न कहा गया हो लेकिन, सीधे निशाना नरेंद्र मोदी ही हैं। नरेंद्र मोदी और प्रवीण तोगड़िया एक समय में पक्के दोस्त थे और नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्री बनने के बाद कुछ ही समय बाद दुश्मनी भी पक्की वाली हो गई थी। नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री बने तो, गोर्धन जड़फिया केे जरिए तोगड़िया का सत्ता में जबरदस्त दखल रहा। लेकिन, जब मोदी ने उन्हें मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया तो, धीरे-धीररे गुजरात की सत्ता में तोगड़िया की पकड़ ढीली होती चली गई। बाद में नरेंद्र मोदी ने तोगड़िया को गुजरात की राजनीति में अप्रासंगिक बना दिया। हालांकि, डॉक्टर प्रवीण तोगड़िया के विश्व हिन्दू परिषद में काम की वजह से उन्हें अनदेखा करना कभी सम्भव नहीं था। इसीलिए अशोक सिंघल के निधन के बाद विश्व हिन्दू परिषद के कमान पूरी तरह से तोगड़िया के हाथ में आ गई। कहा जाता है कि, नरेंद्र मोदी की लाख कोशिशों के बावजूद तोगड़िया विहिप के अन्तर्राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष बने रहे। दोनों के बीच की लड़ाई जगजाहिर है। लेकिन, आज प्रवीण तोगड़िया ने जो किया है, उस कहानी में कई बातें साफ नहीं हो पा रही हैं। मामला इतना गम्भीर है कि, तोगड़िया को बताना चाहिए कि, एनकाउंटर होने वाला है, यह बात किसने बताई।