गुजरात विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। राहुल गांधी कांग्रेस के लिए जोर शोर से प्रचार में जुटे हैं। हालांकि, शंकरसिंह वाघेला के पार्टी छोड़ने के बाद से असली मुश्किल यही हो गई है कि कांग्रेस के पास कोई नेता ही नहीं है और उससे भी दुखद यह है कि कांग्रेस विपक्षी दलों की भी नेता नहीं बन पाई। विपक्षी दलों की एकता न करा पाने का नुकसान होता साफ दिख रहा है।