गुजरात विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। राहुल गांधी कांग्रेस के लिए जोर शोर से प्रचार में जुटे हैं। हालांकि, शंकरसिंह वाघेला के पार्टी छोड़ने के बाद से असली मुश्किल यही हो गई है कि कांग्रेस के पास कोई नेता ही नहीं है और उससे भी दुखद यह है कि कांग्रेस विपक्षी दलों की भी नेता नहीं बन पाई। विपक्षी दलों की एकता न करा पाने का नुकसान होता साफ दिख रहा है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

बतंगड़ ब्लॉग

पार्टियों को जनादेश के एजेंडे पर ही चलना चाहिए

भारतीय जनता पार्टी की सरकार क्या राममंदिर का एजेंडा लागू करना चाहती है? मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अयोध्या में भव्य दीपावली मनाने के बाद राम जन्मभूमि पर जाने से यह सवाल बड़ा हो गया है। Read more…

बतंगड़ ब्लॉग

अयोध्या में त्रेतायुग उतारने की कोशिश के मायने

आज योगी आदित्यनाथ राम जन्मभूमि भी होकर आए। उससे पहले कल अयोध्या को दीपावली के लिए ऐसे चमकाया गया, जैसा हाल के वर्षों में कभी न हुआ। अवध नगरी में बरसों बाद समृद्धि दिखी। एक Read more…

बतंगड़ ब्लॉग

‘पूंजीवादी मोदी’ से लड़ने में लगा विपक्ष ‘समाजवादी मोदी’ से हारता जा रहा है

एक कार्यक्रम में तेजी से सड़क बनाने के लिए मशहूर होते जा रहे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि दुनिया आर्थिक विकास के साम्यवाद, समाजवाद और पूंजीवाद के मॉडल से सारी मुश्किलों का Read more…