जैसे आरुषि को किसी ने नहीं मारा, वैसे ही 2जी घोटाला भी नहीं हुआ। कमाल की बात यह कि, इस पर बहुतेरे पत्रकार सवाल पूछने के बजाय प्रफुल्लित दिख रहे हैं, क्यों भला ? सरकार से कड़े सवाल पूछने का वक्त है।