71वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिर से जमकर बोले। कह रहे थे कि इस बार भाषण छोटा रखने की कोशिश करूंगा। लेकिन, नहीं कर पाए। इसके बावजूद प्रधानमंत्री के भाषण में चीन का जिक्र तक नहीं हुआ। वरिष्ठ पत्रकार हर्षवर्धन त्रिपाठी इसे सही रणनीति के तौर पर देख रहे हैं।