प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 71वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले की प्राचीर से कहाकि, न गाली से, न गोली से, कश्मीर समस्या सुलझेगी गले लगाने से। इसी आधार पर कई विश्लेषक ये कह रहे हैं कि क्या कश्मीर को लेकर मोदी सरकार नरम पड़ गई है। लेकिन, ऐसा कहने वालों ने प्रधानमंत्री की ही अगली पंक्ति पर ध्यान नहीं दिया। राजनीतिक विश्लेषक बता रहे हैं कि वही आगे की पंक्ति बताती है कि नरेंद्र मोदी सरकार की कश्मीर नीति और पहले की सरकारों की कश्मीर नीति में क्या फर्क है।