प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 71वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले की प्राचीर से कहाकि, न गाली से, न गोली से, कश्मीर समस्या सुलझेगी गले लगाने से। इसी आधार पर कई विश्लेषक ये कह रहे हैं कि क्या कश्मीर को लेकर मोदी सरकार नरम पड़ गई है। लेकिन, ऐसा कहने वालों ने प्रधानमंत्री की ही अगली पंक्ति पर ध्यान नहीं दिया। राजनीतिक विश्लेषक बता रहे हैं कि वही आगे की पंक्ति बताती है कि नरेंद्र मोदी सरकार की कश्मीर नीति और पहले की सरकारों की कश्मीर नीति में क्या फर्क है।

Related Posts

बतंगड़ ब्लॉग

मृणाल पांडे की जमकर आलोचना क्यों जरूरी ?

जानी मानी लेखिका, हिन्दुस्तान अखबार की पूर्व प्रधान सम्पादक और प्रसार भारती की पूर्व चेयरमैन मृणाल पांडे ने ट्विटर पर ऐसा लिख दिया है जिसे, मृणाल पांडे के समर्थन में उतरे लोग आलोचना कह रहे Read more…

वीडियो

बच्चों का स्वामी विवेकानन्द से परिचय का समय

स्वामी विवेकानन्द पर शायद ही कोई विवाद कर सके, बावजूद इसके स्वामी जी के जीवन चरित्र के बारे में हिन्दुस्तान के बच्चों-बड़ों का खास ज्ञान नहीं है। सिवाय इसके कि उन्होंने शिकागो भाषण दिया था Read more…

राजनीति

बुद्धिजीवी कौन है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बुद्धिजीवियों को भाजपा विरोधी बताने के बाद ये सवाल चर्चा में आ गया है कि क्या बुद्धिजीवी एक खास विचार के ही हैं। मेरी नजर में बुद्धिजीवी की बड़ी सीधी Read more…