गोरखपुर की घटना हमारी सरकारों की सम्वेदनहीनता को उजागर करती है। प्रदेश के मुख्यमंत्री के घर के सरकारी अस्पताल में ये दर्दनाक गैरइरादतन हत्या हुई है। और ये हत्या नियमित तौर पर हो रही है। जिस अस्पताल का ये मामला है, वहां हर रोज बच्चे मर रहे हैं। एक साथ इतने बच्चे मरे, तो मीडिया जाग गई। लेकिन, सरकार अभी भी बहानेबाजी पर लगी हुई है।

Related Posts

राजनीति

ममता की मुस्लिम राजनीति से मुसलमानों का कितना भला

ममता बनर्जी को पश्चिम बंगाल की जनता लगातार जनादेश दे रही है। लोकतंत्र में सबसे ज्यादा महत्व भी इसी बात का है। लेकिन, जनादेश पाने के बाद सत्ता चलाने वाले नेता का व्यवहार भी लोकतंत्र Read more…

अखबार में

कांग्रेस को नया नेता खोजने पर जोर देना चाहिए

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के साथ निजी तौर पर मेरी बड़ी सहानुभूति है। और इस सहानुभूति की सबसे बड़ी वजह यह है कि निजी तौर पर राहुल गांधी मुझे भले आदमी नजर आते हैं। लेकिन, Read more…

बतंगड़ ब्लॉग

मृणाल पांडे की जमकर आलोचना क्यों जरूरी ?

जानी मानी लेखिका, हिन्दुस्तान अखबार की पूर्व प्रधान सम्पादक और प्रसार भारती की पूर्व चेयरमैन मृणाल पांडे ने ट्विटर पर ऐसा लिख दिया है जिसे, मृणाल पांडे के समर्थन में उतरे लोग आलोचना कह रहे Read more…