गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे भी आ गए। पत्रकारों की छोड़िए, चुनाव विश्लेषण के नाम पर ही अपनी ब्रांडिंग करने वाले योगेंद्र यादव पूरी तरह से गलत साबित हुए। सेलिब्रिटी टाइप के पत्रकारों, चुनाव विश्लेषकों और बुद्धिजीवियों के साथ नए पत्रकारों के लिए आगे चुनावी समय में याद रखने लायक कुछ जरूरी बातें बता रहा हूं।