गुजरात चुनाव हर बार की ही तरह इस बार भी जबरदस्त रोचक हैं। फर्क बस इतना है कि नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री के तौर पर यहां नहीं है। लेकिन, प्रधानमंत्री के तौर पर आ रहे हैं। राहुल गांधी लगभग बन चुके कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर जमे हैं और अमित शाह भी बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर हैं लेकिन, विधायक नहीं बनने वाले। लेकिन, इन तीनों की इज्जत दांव पर लगी है। इनकी साझा कमजोरी यही है कि इनके स्थानीय नेता बहुत कमजोर हैं। इसीलिए गुजरात का गणित थोड़ा कम समझ आ रहा है।