चन्डीगढ़ में एक लड़की को छड़ने के मामले में भारतीय जनता पार्टी की हरियाणा इकाई के अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे विकास बराला को बचाने के आरोप लग रहे हैं। दुखद ये है कि ये आरोप उस पुलिस पर लग रहे हैं जिस पुलिस ने आधी रात में उस लड़की के साथ किसी भी तरह की दुर्घटना होने से बचा लिया। एक आईएएस अधिकारी की बेटी होने की वजह से मामला दर्ज कर लिया गया। लेकिन, सत्ताधारी पार्टी के अध्यक्ष का बेटा होने से सुबह धाराएं बदल गईं। वरिष्ठ पत्रकार हर्षवर्धन त्रिपाठी का मानना है कि मोदीराज में इस तरह की घटनाएं होने से जनता नाउम्मीद होगी और ऐसे मामले में जनता की उम्मीद का जाना देश की राजनीति के लिए अच्छा नहीं होगा।

Related Posts

बतंगड़ ब्लॉग

‘पूंजीवादी मोदी’ से लड़ने में लगा विपक्ष ‘समाजवादी मोदी’ से हारता जा रहा है

एक कार्यक्रम में तेजी से सड़क बनाने के लिए मशहूर होते जा रहे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि दुनिया आर्थिक विकास के साम्यवाद, समाजवाद और पूंजीवाद के मॉडल से सारी मुश्किलों का Read more…

राजनीति

कांग्रेस की सफलता के लिए जरूरी सूत्र

कांग्रेस गुरदासपुर लोकसभा सीट की जीत और नांदेड़ नगर पालिका की जीत से बहुत उत्साहित है, होना भी चाहिए। लेकिन, इन दोनों चुनावों की जीत का असल सूत्र समझकर उसे लागू करने पर ही कांग्रेस Read more…

बतंगड़ ब्लॉग

नरेंद्र मोदी को जेल भेजने की साजिश !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को गुजरात में हुई सभा में जो कुछ कहा है, उसका एक-एक शब्द दरअसल चुनावी मुद्दों को अपने हिसाब से तय करने की कोशिश है और उसमें 2 सबसे मारक Read more…