साईं की मूर्ति कहीं मंदिर से निकालकर विसर्जित की जा रही है। कहीं साईं मंदिर पर ताला जड़ा जा रहा है। साईं को लेकर मेरे मन में तटस्थ भाव ही है। बस कुछ संदर्भ जोड़ने की कोशिश कर रहा हूं। निष्कर्ष पर आप खुद पहुंचिए।
कांग्रेस ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर प्रतिबंध लगा दिया था। संघ और संघ के स्वयंसेवक की देश में आज क्या स्थिति है, सबको पता है। और साईं के खिलाफ मुहिम कांग्रेसी कहे जाने वाले शंकराचार्य स्वरूपानंद ने शुरू की है। यही वो थे जिन्होंने मोदी के प्रधानमंत्री बनने की संभावना वाले सवाल पर पत्रकार को चांटा जड़ दिया था।

Related Posts

राजनीति

ममता की मुस्लिम राजनीति से मुसलमानों का कितना भला

ममता बनर्जी को पश्चिम बंगाल की जनता लगातार जनादेश दे रही है। लोकतंत्र में सबसे ज्यादा महत्व भी इसी बात का है। लेकिन, जनादेश पाने के बाद सत्ता चलाने वाले नेता का व्यवहार भी लोकतंत्र Read more…

राजनीति

बुद्धिजीवी कौन है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बुद्धिजीवियों को भाजपा विरोधी बताने के बाद ये सवाल चर्चा में आ गया है कि क्या बुद्धिजीवी एक खास विचार के ही हैं। मेरी नजर में बुद्धिजीवी की बड़ी सीधी Read more…

राजनीति

स्वतंत्र पत्रकारों के लिए जगह कहां बची है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुद्धिजीवियों पर ये आरोप लगाकर नई बहस छेड़ दी है कि बुद्धिजीवी बीजेपी के खिलाफ हैं। मेरा मानना है कि दरअसल लम्बे समय से पत्रकार और बुद्धिजीवी होने के खांचे Read more…