जैसी घटनाएं साल भर घटती रहती हैं उसी समय अगर वो सब उसी तरह से गूगल अंकल के सर्च इंजन में जुड़ जाए तो, कौन सा शब्द खोजने पर क्या मिल सकता है। ये मैंने 2007 जाते-जाते खोजने की कोशिश की है।

हरामीपना सर्च मारोगे तो, जॉर्ज बुश की जगह मुशर्रफ का नाम आएगा

हिंदुत्व की वकालत करने वाले सबसे बड़े नेता को खोजोगे तो, लाल कृष्ण आडवाणी की जगह नरेंद्र मोदी का नाम आएगा

विहिप का वजूद अब कहां बचा है ये जानने की कोशिश करोगे तो, राम की अयोध्या के आसपास कहीं नहीं मिलेगा। अब वो राम के पुल से पार उतरने की कोशिश करते दिखेंगे, तमिलनाडु से लंका के बीच कहीं

सांप्रदायिक हमला सर्च करोगे तो, एम एफ हुसैन ‘फटी पेंटिंग’ के साथ नहीं अब तसलीमा नसरीन ‘द्विखंडिता’ के साथ मिलेंगी

सबसे बड़े ब्लैकमेलर खोजोगे तो, मुशर्रफ के साथ लेफ्ट पार्टियों के नेता नजर आएंगे

बरबाद सड़कें खोजोगे तो, अब बिहार में नहीं बंबई में मिलेंगी

दलित उत्थान प्रणेता के बारे में जानना चाहोगे तो, डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की जगह अब सुश्री मायावती की जीवनी और फिल्में दिखेंगी

चाणक्य खोजोगे तो, कलजुगी चाणक्य सतीश चंद्र मिश्रा का नाम आएगा

स्टिंग ऑपरेशन की खोज करने पर आजतक या स्टार न्यूज की जगह अब लाइव इंडिया चमकेगा

राजनीतिक विरासत सर्च मारोगे तो, सोनिया, राहुल गांधी के साथ मुस्कुराती दिखेंगी और पड़ोसी पाकिस्तान में बेनजीर खुदा के घर से बिलावल को आसिफ जरदारी की हिफाजत में देख खुश हो रही होंगी

नरसंहार खोजने पर गुजरात की जगह नंदीग्राम का नाम चमकता दिखेगा

शैया पर पड़े भीष्म पितामह खोजने पर अटल बिहारी वाजपेयी नजर आएंगे


आप सभी को Happy new year 2008


9 Comments

Sanjeet Tripathi · December 31, 2007 at 6:19 pm

हा हा, सटीक लिखा है आपने!!
नए साल की शुभकामनाएं आपको भी

Sanjay · December 31, 2007 at 7:02 pm

हर्षजी नया वर्ष आपको मंगलमय हो. इस चिट्ठे पर इसी तरह विचारोत्‍तेजक लेख आप लिखते रहें ऐसी शुभमानाएं हैं.

विनीत उत्पल · December 31, 2007 at 8:25 pm

नया वर्ष आपके लिए शुभ और मंगलमय हो।

ज्ञानदत्त पाण्डेय । GD Pandey · December 31, 2007 at 11:54 pm

बढ़िया, बढ़िया! नये साल में साल भर खूब सर्चियाओ गूगल पर भी और जिन्दगी में भी। बहुत मुबारक।

Lavanyam - Antarman · January 1, 2008 at 12:16 am

नए साल की शुभकामनाएं आपको भी।

भुवन भास्कर · January 1, 2008 at 5:12 am

ज़ोरदार………वाह, वाह

Sanjay Sharma · January 1, 2008 at 8:29 am

नव वर्ष मंगलमय ,सुखमय, शांतिमय और संतुष्टिमय हो ! मजेदार व्यंग के लिए धन्यवाद !

दिनेशराय द्विवेदी · January 1, 2008 at 3:42 pm

नया साल अभी १ जनवरी को शाम ६ बजे सांझ ढलने के बाद शुरु हुआ। आप कल २ जनवरी की सुबह नए साल के सूरज की पहली किरन देख पाऐंगे। नया साल मुबारक हो आप को सपरिवार, जिसमें भाभियों और भतीजे भतीजों के साथ सभी हिन्दी ब्लॉगर शामिल हैं।
आप बतंगड़ के लिए सर्च मारेंगे तो आप को Live Your Life मिलेगा

हर्षवर्धन · January 2, 2008 at 12:55 am

@दिनेशराय द्विवेदी
शुक्रिया सर।

Comments are closed.

Related Posts

राजनीति

बुद्धिजीवी कौन है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बुद्धिजीवियों को भाजपा विरोधी बताने के बाद ये सवाल चर्चा में आ गया है कि क्या बुद्धिजीवी एक खास विचार के ही हैं। मेरी नजर में बुद्धिजीवी की बड़ी सीधी Read more…

राजनीति

स्वतंत्र पत्रकारों के लिए जगह कहां बची है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुद्धिजीवियों पर ये आरोप लगाकर नई बहस छेड़ दी है कि बुद्धिजीवी बीजेपी के खिलाफ हैं। मेरा मानना है कि दरअसल लम्बे समय से पत्रकार और बुद्धिजीवी होने के खांचे Read more…

अखबार में

हत्या में सम्मान की राजनीति की उस्ताद कांग्रेस

गौरी लंकेश को कर्नाटक सरकार ने पूरे राजकीय सम्मान के साथ अन्तिम विदाई दी। गौरी लंकेश को राजकीय सम्मान दिया गया और सलामी दी गई। इस तरह की विदाई आमतौर पर शहीद को दी जाती Read more…