राजदीप सरदेसाई को लेकर दुनिया भर की जा बातें हो रही हैं वो अपनी जगह। लेकिन, राजदीप सरदेसाई के अपराध बहुत हैं। इस थप्पड़ से सारे अपराधों की बात होगी। इससे कम से कम मैं तो खुश हूं। और कम से कम आज की तारीख तक किसी की चवन्नी भी मैंने बेईमानी के एवज में नहीं ली है। मैं भी ये मानता रहा कि राजदीप बड़े और ईमानदार पत्रकार हैं। देश के जाने कितने पत्रकारिता पढ़ने वाले बच्चे राजदीप को देखकर पत्रकारिता करते हैं। उन सबको राजदीप ने ठगा है। उन सबके साथ राजदीप सरदेसाई ने बेईमानी की है। किसी पत्रकार के साथ धक्कामुक्की या मारपीट पहली बार नहीं हुई है। रिपोर्टिंग करते समय कई बार होती है। लेकिन, राजदीप ने जो इरादतन टाइप की मारपीट अपने साथ करवाई उसकी वजह से पूरे देश की छवि को जो बट्टा लगा। उसकी भरपाई किसके हिस्से से होगी। राजदीप को अगर सचमुच की पत्रकारिता करनी होती तो क्या डॉक्टर ने बताया था कि करीब दो दशक से संपादक रहने के बाद उन्हें फिर से किसी संस्थान में नौकरी करनी पड़े। क्या दोनों पति-पत्नी पत्रकार देश में सचमुच की पत्रकारिता करने की शुरुआत नहीं कर सकते थे।

सीएनएन आईबीएन और आईबीएन सेवन के संपादक की नौकरी छोड़नी पड़ी तो फिर से संपादक की कुर्सी ही चाहिए। क्या ये साबित करना चाहते हैं कि बिना संपादक हुए पत्रकारिता नहीं हो सकती। क्या राजदीप सरदेसाई और सागरिका घोष हेडलाइंस टुडे और टाइम्स ऑफ इंडिया की नौकरी करने के बजाय स्वतंत्र पत्रकार के तौर पर देश की सरकार के खिलाफ असल मुहिम छेड़ने का साहस कर सकते थे और अगर नहीं कर सकते थे तो मलाईदार संपादकी और मोटी रकम के साथ पत्रकार बनने की इच्छा रखने वाली पूरी पीढ़ी बरगलाने का अधिकार इन्हें किसने दिया। पत्रकारिता, देश दोनों के साथ ये बेईमानी नहीं कर रहे थे। इस वीडियो को देखकर समझिए कि राजदीप सरदेसाई ने ऐसा क्यों किया होगा। किसी दलाली या किसके लिए बेईमानी कर रहे थे राजदीप सरदेसाई। आज तक पर जब मैंने राजदीप को मैडिसन स्क्वायर से रिपोर्टिंग करते देखा तभी समझ गया था कि वो एजेंडे पर थे। राजदीप सरदेसाई के मन में शायद ये इच्छा रही होगी कि वो अमेरिका में ये बेहूदगी करके दुनिया के सबसे सेक्युलर पत्रकार बन जाएंगे। उनकी इच्छा शायद यूएन में मुकदमा चलाकर नरेंद्र मोदी को अब दागी साबित करने की होगी या फिर अमेरिका की किसी अदालत में। देश, देश की जनता, देश सम्मानित संस्थाओं को अपमानित करने की नीयत से ये राजदीप सरदेसाई अमेरिका गया था।

Related Posts

राजनीति

ममता की मुस्लिम राजनीति से मुसलमानों का कितना भला

ममता बनर्जी को पश्चिम बंगाल की जनता लगातार जनादेश दे रही है। लोकतंत्र में सबसे ज्यादा महत्व भी इसी बात का है। लेकिन, जनादेश पाने के बाद सत्ता चलाने वाले नेता का व्यवहार भी लोकतंत्र Read more…

राजनीति

बुद्धिजीवी कौन है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बुद्धिजीवियों को भाजपा विरोधी बताने के बाद ये सवाल चर्चा में आ गया है कि क्या बुद्धिजीवी एक खास विचार के ही हैं। मेरी नजर में बुद्धिजीवी की बड़ी सीधी Read more…

राजनीति

स्वतंत्र पत्रकारों के लिए जगह कहां बची है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुद्धिजीवियों पर ये आरोप लगाकर नई बहस छेड़ दी है कि बुद्धिजीवी बीजेपी के खिलाफ हैं। मेरा मानना है कि दरअसल लम्बे समय से पत्रकार और बुद्धिजीवी होने के खांचे Read more…