अमर उजाला के संपादकीय पृष्ठ ब्लॉग कोना नाम से ब्लॉग पर लिखा हुआ छपता है। और, 23 जुलाई को इस पेज पर बतंगड़ को जगह मिली है।


11 Comments

siddharth · July 24, 2008 at 5:38 pm

बतंगड़ की चर्चा अमर-उजाला में देख कर प्रसन्न हो चुका था। आपकी रसीद की प्रतीक्षा थी। लीजिए हमारी बधाई। …पोस्ट पढ़कर भी अच्छा लगा था।

Udan Tashtari · July 24, 2008 at 7:20 pm

बहुत बधाई.

Anonymous · July 25, 2008 at 12:33 am

चलिए, अमर उजाला में आपका भी छप गया, आप भी महान हो गए। ऐसी महानता के लिए हजारों लोग इधर-उधर थूथन मार रहे हैं।

उन्मुक्त · July 25, 2008 at 12:58 am

बधाई – हिन्दी चिट्ठों की बात चल निकली।

छत्तीसगढिया .. Sanjeeva Tiwari · July 25, 2008 at 2:24 am

हमारी भी बधाई स्‍वीकारें हर्ष भाई ।

अशोक पाण्डेय · July 25, 2008 at 5:02 am

हर्षवर्धन जी, बधाई। यह अच्‍छी बात है कि ब्‍लॉग लेख को अखबार संपादकीय पेज पर जगह दे रहे हैं।

Sanjay Sharma · July 25, 2008 at 6:36 am

बहुत बहुत बधाई हर्ष भाई ! देश हर प्रमुख अखबार में बात का बतंगड़ हो ! कामना है .

अजित वडनेरकर · July 25, 2008 at 6:37 am

हर्षजी बधाई।
ब्लाग आलेख को टिप्पणी के रूप में छापने की पहल भी अच्छी है। और बगल में बिग बी, ये तो यादगार हो गया 🙂

Harinath · July 25, 2008 at 7:49 am

लेख अच्छा है. इसलिए छापा गया. अच्छा लिखने के लिए बधाई.

प्रभाकर पाण्डेय · July 25, 2008 at 11:17 am

हार्दिक बधाई।

swapandarshi · July 25, 2008 at 4:25 pm

congrates

Comments are closed.

Related Posts

राजनीति

ममता की मुस्लिम राजनीति से मुसलमानों का कितना भला

ममता बनर्जी को पश्चिम बंगाल की जनता लगातार जनादेश दे रही है। लोकतंत्र में सबसे ज्यादा महत्व भी इसी बात का है। लेकिन, जनादेश पाने के बाद सत्ता चलाने वाले नेता का व्यवहार भी लोकतंत्र Read more…

राजनीति

बुद्धिजीवी कौन है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बुद्धिजीवियों को भाजपा विरोधी बताने के बाद ये सवाल चर्चा में आ गया है कि क्या बुद्धिजीवी एक खास विचार के ही हैं। मेरी नजर में बुद्धिजीवी की बड़ी सीधी Read more…

राजनीति

स्वतंत्र पत्रकारों के लिए जगह कहां बची है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुद्धिजीवियों पर ये आरोप लगाकर नई बहस छेड़ दी है कि बुद्धिजीवी बीजेपी के खिलाफ हैं। मेरा मानना है कि दरअसल लम्बे समय से पत्रकार और बुद्धिजीवी होने के खांचे Read more…