दिल्ली की एक फैशन रिपोर्टर शाहरुख खान से

मैं आपसे शादी करना चाहती हूं

शाहरुख खान – मुझे कोई दिक्कत नहीं अगर आपकी मम्मी को एतराज ना हो तो

फैशन रिपोर्टर – हां, मेरी मम्मी को दिक्कत होगी क्योंकि, वो भी आपको प्यार करती है

शाहरुख खान – कोई बात नहीं जब मैं 20 साल बाद आऊंगा तो, तुम्हारी बेटी मुझसे शादी के लायक हो जाएगी।

और, फैशन रिपोर्टर शाहरुख की इस हाजिरजवाबी पर लाजवाब थी। कुछ सो स्वीट टाइप की।
(डिसक्लेमर- ये सारी बातचीत चलताऊ अंग्रेजी में हुई थी और उसी तरह से शब्दों का भी इस्तेमाल हुआ था। हिंदी में ये सारी बातचीत फूहड़ता होती। अंग्रेजी में ये बातचीत आधुनिक होने का सबूत देती है।)


7 Comments

Mithilesh dubey · August 22, 2010 at 7:27 am

लास्ट लाईंन सबसे सही लगी ।

Suresh Chiplunkar · August 22, 2010 at 11:52 am

मिथिलेश जी से सहमत…

अंग्रेजों की महिमा तो निराली ही होती है, शायद इसीलिये CWG की आयोजन समिति ने दिशानिर्देश जारी किये हैं कि खेलों के दौरान सार्वजनिक स्थानों पर चूमाचाटी न करें, जूते खाने का खतरा है… 🙂 🙂

जबकि दिशानिर्देश तो काले अंग्रेजों (भारतीयों) के लिये भी जारी होने चाहिये थे…

ajit gupta · August 23, 2010 at 6:05 am

सही कह रहे हैं कि अंग्रेजी में बोलो तो गाली भी मधुर लगती है।

Rajnish tripathi · September 1, 2010 at 12:34 pm

apne desh me koi bhi agreji me farji baat kare lekin samne wale ko gita ka updesh hi lagta. esha lagta hai ki krishn ji updesh de reho ho. cwg hone wala hai jo verification ke liye jo form aaye the farne ke liye sabhi form galt bhare gaye the.sare form vapas aagye.

Mrs. Asha Joglekar · September 1, 2010 at 2:03 pm

Ghar ka jogi jogada Aan gaon ka siddh.

शरद कोकास · September 8, 2010 at 4:59 pm

हमे अंग्रेजी नही आती ……

हकीकत · December 5, 2010 at 2:46 pm

aisa is liye hai kyoki jinko english aati hai unko koi fark nahee padta hai kyoki wo hi society me ji rahe hote hai our jinko bura lagega unko english aati hi nahee.

Comments are closed.

Related Posts

राजनीति

बुद्धिजीवी कौन है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बुद्धिजीवियों को भाजपा विरोधी बताने के बाद ये सवाल चर्चा में आ गया है कि क्या बुद्धिजीवी एक खास विचार के ही हैं। मेरी नजर में बुद्धिजीवी की बड़ी सीधी Read more…

राजनीति

स्वतंत्र पत्रकारों के लिए जगह कहां बची है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुद्धिजीवियों पर ये आरोप लगाकर नई बहस छेड़ दी है कि बुद्धिजीवी बीजेपी के खिलाफ हैं। मेरा मानना है कि दरअसल लम्बे समय से पत्रकार और बुद्धिजीवी होने के खांचे Read more…

अखबार में

हत्या में सम्मान की राजनीति की उस्ताद कांग्रेस

गौरी लंकेश को कर्नाटक सरकार ने पूरे राजकीय सम्मान के साथ अन्तिम विदाई दी। गौरी लंकेश को राजकीय सम्मान दिया गया और सलामी दी गई। इस तरह की विदाई आमतौर पर शहीद को दी जाती Read more…