प्रीमियम पार्किंग के नाम पर मैं नई दिल्ली
रेलवे स्टेशन पर लूटा गया। कल्पना कीजिए कि आप कार पार्क करके सिर्फ दो दिनों के
लिए कहीं बाहर जाएं। लौटने पर पता चले कि पार्किंग भुगतान 4200 रुपये करना है। अब
इससे ज्यादा बड़ी लूट क्या होगी। पता नहीं किस रेलवे के अधिकारी ने ये प्रीमियम
पार्किंग का सुझाव सरकार को दिया। और सरकारें इसे जस का तस लागू किए हैं। मैंने
दिल्ली की दूसरी प्रीमियम जगहों की पार्किंग का पता लगाया। संसद मार्ग से ज्यादा
प्रीमियम इलाका दिल्ली में कोई क्या होगा। वहां NDMC की पार्किंग है। पार्किंग का बोर्ड साफ-साफ बता रहा है कि 20 रुपया प्रति घंटे
का पार्किंग चार्ज है। और सुबह 6 बजे से रात 12 बजे तक के लिए कोई कार खड़ी करता
है, तो उसे 100 रुपये अधिकतम ही देने होंगे। पूरे महीने कोई इस पार्किंग में कार
खड़ी करना चाहता है, तो भी उसको 2000 रुपये का ही भुगतान करना होगा।
और, सोचिए नई
दिल्ली रेलवे स्टेशन पर प्रीमियम के नाम पर 100 रुपये प्रति घंटा लिया जा रहा है।
जबकि, संसद मार्ग पर 100 रुपया पूरे दिन का है। इससे बड़ी लूट क्या होगी। पूरीघटना यहां पढ़ें 

Related Posts

राजनीति

ममता की मुस्लिम राजनीति से मुसलमानों का कितना भला

ममता बनर्जी को पश्चिम बंगाल की जनता लगातार जनादेश दे रही है। लोकतंत्र में सबसे ज्यादा महत्व भी इसी बात का है। लेकिन, जनादेश पाने के बाद सत्ता चलाने वाले नेता का व्यवहार भी लोकतंत्र Read more…

राजनीति

बुद्धिजीवी कौन है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बुद्धिजीवियों को भाजपा विरोधी बताने के बाद ये सवाल चर्चा में आ गया है कि क्या बुद्धिजीवी एक खास विचार के ही हैं। मेरी नजर में बुद्धिजीवी की बड़ी सीधी Read more…

राजनीति

स्वतंत्र पत्रकारों के लिए जगह कहां बची है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुद्धिजीवियों पर ये आरोप लगाकर नई बहस छेड़ दी है कि बुद्धिजीवी बीजेपी के खिलाफ हैं। मेरा मानना है कि दरअसल लम्बे समय से पत्रकार और बुद्धिजीवी होने के खांचे Read more…