किसान
कराहता ही अच्छा लगता है
किसान
कर्ज के तले दबा ही अच्छा लगता है
किसान
बर्बाद फसल दिखाता अच्छा लगता है
किसान गंदा
दिखता ही अच्छा लगता है
किसान
वोटबैंक बना अच्छा लगता है
किसान
गरीब ही अच्छा लगता है
किसान
फसल के भाव के लिए गिड़गिड़ाता ही अच्छा लगता है
किसान
मैला कुचैला ही अच्छा लगता है
किसान
चिंता करते बड़ा अच्छा लगता है
किसान
कर्ज माफी पर खुश होता अच्छा लगता है
किसान
भूखा रहे लेकिन, अन्नदाता कहलाना ही अच्छा लगता है
किसान
के मरने की खबर टीवी पर देखना अच्छा लगता है
किसान
अपनी छवि के नीचे दबा अच्छा लगता है
किसान
का खुद की पहचान भूल जाना ही अब अच्छा लगता है
किसान
याचक ही अच्छा लगता है
किसान
कराहता ही अच्छा लगता है।

Related Posts

राजनीति

ममता की मुस्लिम राजनीति से मुसलमानों का कितना भला

ममता बनर्जी को पश्चिम बंगाल की जनता लगातार जनादेश दे रही है। लोकतंत्र में सबसे ज्यादा महत्व भी इसी बात का है। लेकिन, जनादेश पाने के बाद सत्ता चलाने वाले नेता का व्यवहार भी लोकतंत्र Read more…

राजनीति

बुद्धिजीवी कौन है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बुद्धिजीवियों को भाजपा विरोधी बताने के बाद ये सवाल चर्चा में आ गया है कि क्या बुद्धिजीवी एक खास विचार के ही हैं। मेरी नजर में बुद्धिजीवी की बड़ी सीधी Read more…

राजनीति

स्वतंत्र पत्रकारों के लिए जगह कहां बची है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुद्धिजीवियों पर ये आरोप लगाकर नई बहस छेड़ दी है कि बुद्धिजीवी बीजेपी के खिलाफ हैं। मेरा मानना है कि दरअसल लम्बे समय से पत्रकार और बुद्धिजीवी होने के खांचे Read more…