ब्रिटेन में एक मंत्री पर पुलिस ने जुर्माना लगा दिया है। गुनाह इतना छोटा था कि अगर भारत में मंत्रीजी ऐसा कर रहे होते तो, पुलिस उनकी तरफ देखती भी नहीं। ब्रिटेन के होम ऑफिस मिनिस्टर ऑफ स्टेट फॉर बॉर्डर एंड इमीग्रेशन को रोड ट्रैफिक एक्ट 1988 के तहत 208 डॉलर यानी करीब 8,000 रुपए का जुर्माना लगाया है। साथ ही ब्रिटेन के मंत्रीजी के लाइसेंस पर 3 पेनाल्टी प्वाइंट्स भी जोड़ दिए गए हैं।
लियाम बायर्ने ने अदालत से अपनी गलती की माफी मांगी है। और, कहा कि वो बहुत जरूरी कॉल थी। लेकिन, अदालत ने कहा कि वो इतने जिम्मेदार पद पर हैं इसलिए ये और जरूरी हो जाता है कि वो, इन नियमों का पूरी तरह से पालन करें। बायर्ने रोड सेफ्टी एक्ट बनाने वाली संसदीय समिति के सदस्य भी रहे हैं जिसने, गाड़ी चलाते वक्त मोबाइल पर बात करने वालों पर ज्यादा जुर्माना लगाने की सिफारिश की थी।
वैसे तो, भारत में भी मोबाइल फोन पर बात करना गुनाह है। और, दिल्ली में तो, इस पर हाईकोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने जुर्माना भी बढ़ा दिया है। लेकिन, पुलिस की क्या मजाल जो किसी मंत्री या आला अधिकारी को कभी इस गुनाह के लिए पकड़ने की हिम्मत कर पाए। हम तो उस दिन का इंतजार कर रहे हैं भारत के किसी मंत्रीजी से पुलिस फोन पर बात करने के लिए जुर्माना वसूल करने की हिम्मत जुटा पाए।

6 Comments

अतुल · November 5, 2007 at 2:58 pm

भारत की पुलिस तो कमजोर आम आदमी के दमन के लिए है.

अतुल

महेंद्र मिश्रा · November 5, 2007 at 3:20 pm

भारत मे किसी मंत्री पर जुर्माना करने की दम भारत की पुलिस मे नही है भारत मे यह दूर की गो टी ही साबित होगी

Udan Tashtari · November 5, 2007 at 3:26 pm

मंत्री तो दूर-जरा सू दमखम वाले व्यक्ति पर जुर्माना नहीं कर सकते.

Sanjeet Tripathi · November 5, 2007 at 4:08 pm

हम इंतजार करेंगे कि वो दिन भी देखने मिले!!

परमजीत बाली · November 5, 2007 at 5:42 pm

जुर्माना तो हो सकता है भारत में भी…यदि किरन बेदी सरीखा कोई हो तो…लेकिन एक बार ही कोई कर सकेगा, फिर उस का क्या होगा राम जानें?

Gyandutt Pandey · November 5, 2007 at 11:42 pm

हम तो उस दिन का इंतजार कर रहे हैं भारत के किसी मंत्रीजी से पुलिस फोन पर बात करने के लिए जुर्माना वसूल करने की हिम्मत जुटा पाए।
——————————

नेक इच्छा है आपकी! करें इंतजार युगों तक! 🙂

Comments are closed.

Related Posts

राजनीति

बुद्धिजीवी कौन है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बुद्धिजीवियों को भाजपा विरोधी बताने के बाद ये सवाल चर्चा में आ गया है कि क्या बुद्धिजीवी एक खास विचार के ही हैं। मेरी नजर में बुद्धिजीवी की बड़ी सीधी Read more…

राजनीति

स्वतंत्र पत्रकारों के लिए जगह कहां बची है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुद्धिजीवियों पर ये आरोप लगाकर नई बहस छेड़ दी है कि बुद्धिजीवी बीजेपी के खिलाफ हैं। मेरा मानना है कि दरअसल लम्बे समय से पत्रकार और बुद्धिजीवी होने के खांचे Read more…

अखबार में

हत्या में सम्मान की राजनीति की उस्ताद कांग्रेस

गौरी लंकेश को कर्नाटक सरकार ने पूरे राजकीय सम्मान के साथ अन्तिम विदाई दी। गौरी लंकेश को राजकीय सम्मान दिया गया और सलामी दी गई। इस तरह की विदाई आमतौर पर शहीद को दी जाती Read more…