18000 रुपए महीने की नौकरी है और 18000 रुपए का 3 बेडरूम फ्लैट लेकर रहता हूं। सवाल- अरे, कैसे? जवाब- सर, नोएडा में 3 दोस्त मिलकर रहते हैं। बैचलर हैं ना। कोई लाइबिलिटी नहीं है। ये एक हैं जो, रहेंगे और दिल्ली-एनसीआर में फ्लैट-घर का किराया बढ़ाते रहेंगे।

यही नहीं हैं। एक और हैं सैनी जी। सेक्टर 55 में जनरल स्टोर, पानी की दुकान चलाते हैं। बताते हैं कि वो, क्लास 1 राजपत्रित अधिकारी रहे हैं। तब सस्ते में दुकान खरीद ली थी। अब 50 लाख से कम की क्या होगी एक बेटा विदेश में बसने के आखिरी पायदान पर है, दूसरा यहीं नोएडा में कारोबार कर रहा है। घर बैठे बोर हो जाते हैं इसलिए दुकान पर आकर बैठ जाते हैं। एक कोठी 56 में, एक कोठी, वही सस्ते दाम वाली, सेक्टर 40 या 41 में है। और, फिर निवेश करना था तो, एक फ्लैट क्रॉसिंग रिपब्लिक में भी ले लिया। अब बताइए सैनी जी और 18000 रुपए महीने कमाने वाले ये बैचलर रहेंगे तो, कोई भी आफत आकर भला घरों को सस्ता कैसे कर पाएगी। और, ये हुआ तो, 60-70% मुनाफा बनाने वाले बिल्डर 6 महीने पुराने मुनाफे पर रोते हुए घर की कीमत बढ़ाए रहेंगे। अब बताओ कोई है सस्ता घर के इंतजार में।


3 Comments

प्रवीण पाण्डेय · October 14, 2012 at 5:38 am

बहुत कठिन है ़़डगर पनघट की।

alisha mallick · November 7, 2012 at 12:45 am

– Atom
देश की दशा-दिशा को समझाने
वाला हिंदी ब्लॉग। जवान देश के
लोगों के भारत और इंडिया से
तालमेल बिठाने की कोशिश पर मेरे
निजी विचार
बतंगड़ BATANGAD
‹ › Home
View web version
Sunday, October 14,
2012
18000 रुपए महीने की नौकरी है
और 18000 रुपए का 3 बेडरूम फ्लैट
लेकर रहता हूं। सवाल- अरे, कैसे?
जवाब- सर, नोएडा में 3 दोस्त
मिलकर रहते हैं। बैचलर हैं ना। कोई
लाइबिलिटी नहीं है। ये एक हैं जो,
रहेंगे और दिल्ली-एनसीआर में
फ्लैट-घर का किराया बढ़ाते रहेंगे।
यही नहीं हैं। एक और हैं सैनी जी।
सेक्टर 55 में जनरल स्टोर,
पानी की दुकान चलाते हैं। बताते
हैं कि वो, क्लास 1 राजपत्रित
अधिकारी रहे हैं। तब सस्ते में
दुकान खरीद ली थी। अब 50 लाख
से कम की क्या होगी एक
बेटा विदेश में बसने के
आखिरी पायदान पर है,
दूसरा यहीं नोएडा में कारोबार
कर रहा है। घर बैठे बोर हो जाते
हैं इसलिए दुकान पर आकर बैठ जाते
हैं। एक कोठी 56 में, एक कोठी,
वही सस्ते दाम वाली, सेक्टर 40
या 41 में है। और, फिर निवेश
करना था तो, एक फ्लैट क्रॉसिंग
रिपब्लिक में भी ले लिया। अब
बताइए सैनी जी और 18000 रुपए
महीने कमाने वाले ये बैचलर रहेंगे
तो, कोई भी आफत आकर
भला घरों को सस्ता कैसे कर
पाएगी। और, ये हुआ तो, 60-70%
मुनाफा बनाने वाले बिल्डर 6
महीने पुराने मुनाफे पर रोते हुए
घर की कीमत बढ़ाए रहेंगे। अब
बताओ कोई है सस्ता घर के इंतजार
में।
HARSHVARDHAN TRIPATHI at
10:33 AM
ये है किराया या घर
की कीमत न घटने
का गणित
Share
Comment as:

alisha mallick · November 7, 2012 at 12:45 am

– Atom
देश की दशा-दिशा को समझाने
वाला हिंदी ब्लॉग। जवान देश के
लोगों के भारत और इंडिया से
तालमेल बिठाने की कोशिश पर मेरे
निजी विचार
बतंगड़ BATANGAD
‹ › Home
View web version
Sunday, October 14,
2012
18000 रुपए महीने की नौकरी है
और 18000 रुपए का 3 बेडरूम फ्लैट
लेकर रहता हूं। सवाल- अरे, कैसे?
जवाब- सर, नोएडा में 3 दोस्त
मिलकर रहते हैं। बैचलर हैं ना। कोई
लाइबिलिटी नहीं है। ये एक हैं जो,
रहेंगे और दिल्ली-एनसीआर में
फ्लैट-घर का किराया बढ़ाते रहेंगे।
यही नहीं हैं। एक और हैं सैनी जी।
सेक्टर 55 में जनरल स्टोर,
पानी की दुकान चलाते हैं। बताते
हैं कि वो, क्लास 1 राजपत्रित
अधिकारी रहे हैं। तब सस्ते में
दुकान खरीद ली थी। अब 50 लाख
से कम की क्या होगी एक
बेटा विदेश में बसने के
आखिरी पायदान पर है,
दूसरा यहीं नोएडा में कारोबार
कर रहा है। घर बैठे बोर हो जाते
हैं इसलिए दुकान पर आकर बैठ जाते
हैं। एक कोठी 56 में, एक कोठी,
वही सस्ते दाम वाली, सेक्टर 40
या 41 में है। और, फिर निवेश
करना था तो, एक फ्लैट क्रॉसिंग
रिपब्लिक में भी ले लिया। अब
बताइए सैनी जी और 18000 रुपए
महीने कमाने वाले ये बैचलर रहेंगे
तो, कोई भी आफत आकर
भला घरों को सस्ता कैसे कर
पाएगी। और, ये हुआ तो, 60-70%
मुनाफा बनाने वाले बिल्डर 6
महीने पुराने मुनाफे पर रोते हुए
घर की कीमत बढ़ाए रहेंगे। अब
बताओ कोई है सस्ता घर के इंतजार
में।
HARSHVARDHAN TRIPATHI at
10:33 AM
ये है किराया या घर
की कीमत न घटने
का गणित
Share
Comment as:

Comments are closed.

Related Posts

राजनीति

बुद्धिजीवी कौन है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बुद्धिजीवियों को भाजपा विरोधी बताने के बाद ये सवाल चर्चा में आ गया है कि क्या बुद्धिजीवी एक खास विचार के ही हैं। मेरी नजर में बुद्धिजीवी की बड़ी सीधी Read more…

राजनीति

स्वतंत्र पत्रकारों के लिए जगह कहां बची है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुद्धिजीवियों पर ये आरोप लगाकर नई बहस छेड़ दी है कि बुद्धिजीवी बीजेपी के खिलाफ हैं। मेरा मानना है कि दरअसल लम्बे समय से पत्रकार और बुद्धिजीवी होने के खांचे Read more…

अखबार में

हत्या में सम्मान की राजनीति की उस्ताद कांग्रेस

गौरी लंकेश को कर्नाटक सरकार ने पूरे राजकीय सम्मान के साथ अन्तिम विदाई दी। गौरी लंकेश को राजकीय सम्मान दिया गया और सलामी दी गई। इस तरह की विदाई आमतौर पर शहीद को दी जाती Read more…