अक्टूबर के महीने में देश भर में भले ही खादी की बिक्री घट गई है। वो, भी तब जब गुजरात में चुनावी मौसम है। लेकिन, लोग खादी के कुर्ते कम ही खरीद रहे हैं। ऐसा नहीं है कि खादी नहीं बिक रही है। जो, खादी बिक भी रही है वो मोदी स्टाइल का खादी का कुर्ता है। चाइनीज कॉलर वाला आधी बांह का खादी कुर्ता ‘मोदी कुर्ता’ के नाम से ही प्रसिद्ध है और इससे पहनने वाले भी खूब बढ़े हैं। वैसे मोदी के पूरे राज में ही खादी की बिक्री घटी है। पिछले छे सालों में लगातार खादी एंपोरियम में बिक्री घटी है। इसकी सबसे बड़ी वजह है गुजरात में खादी के कपड़ों पर छूट कम मिल रही है। खादी के कपड़ों पर गुजरात में 20 प्रतिशत से ज्यादा छूट नहीं दी जा सकती है। जबकि, दूसरे राज्यों में खादी के कपड़े पर छूट 30 प्रतिशत है।

चुनाव के रंग से शादी में भंग!

शादियां भले ही जन्नत में तय होने की मान्यता हो। लेकिन, धरती पर चुनाव इनके रंग में भंग डाल रहे हैं। गुजरात चुनाव में कुछ ऐसा ही हो रहा है। राजकोट में चुनावों की वजह से कई शादियां अधर में अंटक गई हैं। राजकोट के म्युनिसिपल कॉरपोरेशन ने चुनावों की वजह से हॉल की बुकिंग शादी के लिए कैंसिल कर दी है। इससे 75 से ज्यादा जोड़े शादी के पहले शादी करने की जगह की मुश्किल में फंस गए हैं। चुनाव आयोग के निर्देश के बाद नगर निगम ने सभी 12 हॉलों की बुकिंग रद्द कर दी है। अब 2 दिसंबर से सभी बुकिंग अपने आप रद्द हो गई हैं। अब जोड़ों को शादी के लिए दूसरी जगह खोजनी होगी क्योंकि, यहां गुजरात में शांति से चुनाव कराने के लिए अर्द्धसैनिक बलों के जवान रहेंगे।

1 Comment

परमजीत बाली · November 1, 2007 at 6:04 pm

हे भगवान शादियों के मौसम में चुनाव ना हो तो अच्छा+:(

Comments are closed.

Related Posts

राजनीति

बुद्धिजीवी कौन है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बुद्धिजीवियों को भाजपा विरोधी बताने के बाद ये सवाल चर्चा में आ गया है कि क्या बुद्धिजीवी एक खास विचार के ही हैं। मेरी नजर में बुद्धिजीवी की बड़ी सीधी Read more…

राजनीति

स्वतंत्र पत्रकारों के लिए जगह कहां बची है?

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुद्धिजीवियों पर ये आरोप लगाकर नई बहस छेड़ दी है कि बुद्धिजीवी बीजेपी के खिलाफ हैं। मेरा मानना है कि दरअसल लम्बे समय से पत्रकार और बुद्धिजीवी होने के खांचे Read more…

अखबार में

हत्या में सम्मान की राजनीति की उस्ताद कांग्रेस

गौरी लंकेश को कर्नाटक सरकार ने पूरे राजकीय सम्मान के साथ अन्तिम विदाई दी। गौरी लंकेश को राजकीय सम्मान दिया गया और सलामी दी गई। इस तरह की विदाई आमतौर पर शहीद को दी जाती Read more…