बतंगड़ ब्लॉग

गुजरात का ताजा चुनावी गणित

गुजरात चुनाव पर पूरे देश की नजर है, हमेशा ही रहती है। लेकिन, इस बार कुछ ज्यादा इसलिए है क्योंकि, नरेेंद्र मोदी यहां नहीं हैं। और, इसलिए भी कि, बहुत से लोग बदलाव की उम्मीद से हैं। एक रोचक विश्लेषण मुझे समझ में आया है कि जैसे देश का मुसलमान Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

जनेऊधारी हिन्दू होना राहुल के पक्ष में ?

राहुल गांधी का जनेऊधारी होने की बात प्रचारित करना या फिर शिवभक्त होना, यह सब कांग्रेस की गुजरात चुनाव तक की रणनीति है। राहुल के पिता राजीव गांधी ने भभी हिन्दू-मुसलमान दोनों के मतों के लिए कई ऐसे काम किए थे। सवाल बस यही है कि क्या गुजराती हिन्दू राहुल Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

रात 11 बजे अहमदाबाद में सड़क किनारे महिलाओं की खरीदारी

गुजरात में ऐसा क्या है कि यहां का राजनीतिक माहौल लम्बे समय से एक जैसा है। उसकी एक बड़ी वजह, यहां रहने वालों की लाइफस्टाइल का बेहतर होना है। अच्छी सड़कें, निरन्तर बिजली के अलावा सुरक्षा का माहौल एक बड़ी वजह है। रात में 11 बजे लड़कियां-महिलाएं मजे से खरीदारी Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

गुजराती मुसलमान साबरमती रिवरफ्रंट पर मजे कर रहा है !

दिल्ली से बैठकर कुछ ऐसा ही दिखता है कि गुजरात में मुसलमान बेहद डरा-सहमा बस किसी तरह जीवन बिता रहा है। 2002 के बाद से कुछ ऐसी ही धारणा पक्की कर दी गई है। 2002 में हुआ दंगा सभ्य समाज के लिए कलंक ही है। लेकिन, सच यह भी है Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

मुस्तकीम की जगह शातिर कपड़ा कारोबारी होता तो ?

पूरे देश में हल्ला है कि कारोबारी बहुत नाराज है। वजह जीएसटी। मैं हमेशा यह बात कहता था कि ठीक है एक नया टैक्स तंत्र लागू हुआ है, तो उसकी अपनी मुश्किलें होंगी। लेकिन, जीएसटी कोई कारोबारी की जेब से तो जा नहीं रहा है। जीएसटी तो जो खरीद रहा Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

न्यायाधीश लोया की मौत पर सन्देह किस पर करें ?

सीबीआई जज बीएच लोया की मौत हो गई और अब वो मौत #TheCaravan पत्रिका की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सन्देह के घेरे में है। दरअसल, जज लोया सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले की सुनवाई कर रहे थे। चूंकि, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से जुड़ा यह मामला था, इसलिए पत्रिका ने इसमें शक Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

प्रेस क्लब चुनाव में मैं बादशाह-फरीदी पैनल को वोट क्यों दूं ?

प्रेस क्लब ऑफ इंडिया का चुनाव कल होने जा रहा है। इस चुनाव में 7 साल से चुनाव जीत रहे सत्ताधारी समूह और दूसरे पैनल के बीच मुकाबला है। पत्रकारों के इस मंच में लोकतंत्र कितना बचा है, इस सवाल का जवाब सभी पत्रकारों को खोजना चाहिए।

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

कम्पनी बर्बाद, तो मालिक आबाद कैसे ?

भारत में कम्पनियां बर्बाद हो जाती हैं। लेकिन, उनके मालिक ज्यादा आबाद होते हैं। विजय माल्या का एक बड़ा उदाहरण है। कम्पनी की बर्बादी मतलब उस कम्पनी में पैसा लगाने वालों का बर्बाद हो जाना, कम्पनी में काम करने वालों का बर्बाद हो जाना, कम्पनी के साथ जुड़े लोगों का Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

पप्पू, फेंकू से तू चाय बेच ! की तुलना नहीं

कुछ विद्वान लोग कह रहे हैं कि पहले देश के प्रधानमंत्रियों पर भी टिप्पणी होती रही है और डॉ. मनमोहन सिंह पर तो जाने क्या-क्या टिप्पणी की गई। इसीलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर चाय वाली टिप्पणी भी जायज हो जाती है। लेकिन, तू चाय बेच वाली टिप्पणी पप्पू, फेंकू, मौनमोहन Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

कांग्रेस की घटिया सोच

तू चाय बेच ! देश के प्रधानमंत्री के लिए इस तरह का ट्वीट कांग्रेस की युवा शाखा की ऑनलाइन पत्रिका के अधिकारिक #TwitterHandle से किया गया है। दरअसल जनता ने कांग्रेस को भले नकार दिया है लेकिन, कांग्रेसियों को अभी भी लगता है कि गांधी परिवार और कांग्रेस के अलावा Read more…

By Harsh, ago