गुरमीत सिंह दोषी करार दे दिया गया। पूरी उम्मीद है कि ऊपर की अदालतें भी इस सजा को घटाने के बारे में कतई नहीं सोचेंगी। लेकिन, गुरमीत सिंह के मामले ने राजनीति और समाज के सामने कई बड़े सवाल खड़े किए हैं। उन सवालों का जवाब नहीं खोजा गया, तो फिर से ऐसी घटनाएं होती रहेंगी।