बतंगड़ ब्लॉग

रण उत्सव से बदली धोरडो गांव के मुसलमानों की जिन्दगी

गुजरात के रण उत्सव के बारे में आपकी क्या राय है? मोटा-मोटा यही कि, देश के एक खूबसूरत भौगोलिक हिस्से को नरेंद्र मोदी ने शानदार ब्रांडिंग करके देश और दुनिया को बेचा है। हर साल नवम्बर से फरवरी तक चलने वाले इस उत्सव में शामिल होने के लिए देश-दुनिया से Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

देश के हर हिस्से को रण जैसे उत्सव की जरूरत

हिन्दुस्तान के हर हिस्से के पास अपना स्थानीय इतना खूबसूरत, इतना समृद्ध है कि, उसी से इलाके को समृद्ध किया जा सकता है। स्थानीय क्षमताओं के भरोसे बहुत कुछ हो सकता है। रण उत्सव में अपना यह भरोसा फिर से पक्का हुआ है कि, हिन्दुस्तान का हर कोना अपने में Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

परशुराम के वंशज सरफराज अयूब खत्री !

हिन्दुस्तान समझने के लिए सबसे बेहतर जरिया हिन्दुस्तान में रहना, आते-जाते रहना है। क्योंकि, हिन्दुस्तान विशाल है, इसलिए सिर्फ अपने आसपास को देख समझकर ही, समझ पूरी नहीं हो पाती है। इसका अहसास फिर से हुआ, जब मैं रण उत्सव में शामिल होने के लिए टेन्टसिटी में रहा। यहां बांधेज Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

राजनीतिक दलों में खतरनाक प्रचलन

राजनीतिक दलों में तेजी से फलती-फूलती इस खतरनाक प्रवृत्ति पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। दलों के शीर्ष पर बैठे नेताओं के लिए इससे अच्छी स्थिति भला क्या होगी लेकिन, राजनीतिक विमर्श के लिहाज से यह बेहद खतरनाक है।

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

अरविन्द केजरीवाल के धोखे का असर क्या होगा?

अच्छा है कि, बिना सबूतों के आरोप लगाकर सबसे कम समय में सत्ता हासिल करने वाल अरविन्द केजरीवाल को अब बुद्धिजीवियों ने घाघ नेता मान लिया है। लेकिन, आम आदमी पार्टी ने आम आदमी के नाम पर जो धोखेबाजी की है, उसका बुरा असर लम्बे समय तक रहेगा।

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

भ्रष्टाचार के खिलाफ कम से कम 2 पीढ़ियों का साहस आज टूट गया होगा !

आम आदमी पार्टी 70 में 67 लेकर आई थी तो, असम गण परिषद के बाद देश की पहली ऐसी पार्टी बन गई थी, जिसे आन्दोलन से सीधे सत्ता हासिल हो गई हो। बहुत पहले मैंने लिखा था कि, आम आदमी पार्टी भी असम गण परिषद की राह पर है। लेकिन, Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

भीमाकोरेगांव की घटना, दलित और बुद्धिजीवी

भीमाकोरेगांव में शर्मनाक घटनाक्रम हुआ है। इसके बाद आज मुम्बई के भी कई इलाके में उपद्रव हुआ है। 1818 में अंग्रेजों और पेशवा के बीच की लड़ाई के 200 साल पूरे होने पर यह सब हुआ है। आखिर कौन लोग हैं जो, हिन्दुस्तान में हर बार जातिवादी विभाजन होने पर Read more…

By Harsh, ago
बतंगड़ ब्लॉग

2018 में नरेंद्र मोदी की चुनौतियां

नया साल 2018 शुरू हो गया है। एक तरह से अगले लोकसभा चुनाव की तैयारियों का साल है। इस साल में नरेंद्र मोदी के सामने किस तरह की चुनौतियां होंगी।

By Harsh, ago