सर्वोच्च न्यायालय के पटाखे पर दीपावली के लिए लगाए प्रतिबंध वाले फैसले के बाद मेरी पहली टिप्पणी यही थी। “कक्षा 8 में हम रहे होंगे, जब अनार हाथ में फट जाने से हम बुरी तरह से जल गए थे। उसके बाद से कम ही पटाखे छुड़ाते हैं और बहुत तेज आवाज वाले पटाखे हमें सुहाते भी कम हैं। लेकिन, बढ़िया रोशनी और फुलझड़ी, चकरी और अनार के साथ दीपावली मनाते ही हैं और अब तो दोनों बेटियों के फुलझड़ियों के साथ मगन होने का समय है। अब दिल्ली-NCR में पटाखा नहीं मिलेगा, तो इलाहाबाद से मंगाना पड़ेगा। रोशनी वाली धमाकेदार, दीपावली शुभ हो” लेकिन, हम खुद लम्बे समय से पटाखे से दूर हैं और इस बार भी रहेंगे। लेकिन, जिस तरह से कुछ बदमाश बुद्धिजीवी हर बात पर हिन्दू मुसलमान तुलना करते हैं, समाज के लिए वह खतरनाक है।


1 Comment

आशीष वाजपेयी · October 13, 2017 at 8:00 pm

संतुलित टिप्पणी। सागरिका और थरूर के जमाने बहुत शीघ्र जाने वाले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

बतंगड़ ब्लॉग

पार्टियों को जनादेश के एजेंडे पर ही चलना चाहिए

भारतीय जनता पार्टी की सरकार क्या राममंदिर का एजेंडा लागू करना चाहती है? मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अयोध्या में भव्य दीपावली मनाने के बाद राम जन्मभूमि पर जाने से यह सवाल बड़ा हो गया है। Read more…

बतंगड़ ब्लॉग

अयोध्या में त्रेतायुग उतारने की कोशिश के मायने

आज योगी आदित्यनाथ राम जन्मभूमि भी होकर आए। उससे पहले कल अयोध्या को दीपावली के लिए ऐसे चमकाया गया, जैसा हाल के वर्षों में कभी न हुआ। अवध नगरी में बरसों बाद समृद्धि दिखी। एक Read more…

बतंगड़ ब्लॉग

‘पूंजीवादी मोदी’ से लड़ने में लगा विपक्ष ‘समाजवादी मोदी’ से हारता जा रहा है

एक कार्यक्रम में तेजी से सड़क बनाने के लिए मशहूर होते जा रहे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि दुनिया आर्थिक विकास के साम्यवाद, समाजवाद और पूंजीवाद के मॉडल से सारी मुश्किलों का Read more…